शनिवार, 29 अगस्त 2015

रक्षा ही नहीं यह सूत्र है आत्मीयता का!

रक्षा बन्धन का पर्व है, बहनों का उत्सव है, भाइयों को उनके दायित्व की याद दिलाने का त्यौहार है|

आर्य सभ्यता की यह मौलिक विशेषता ही उसे विश्व की सबसे पुरानी और विकसित सभ्यता सिद्ध करता है|

वैसे तो हर मानव सभ्यता की कुछ मौलिक विशेषतायें हैं| मानव जाति ने इन्ही जीवन शैलियों को, धर्म का नाम दे दिया|

रक्षा के बन्धन के द्वारा सम्बन्धों को एक दूसरे से बॉंधने की जो महत्वपूर्ण पहल, आर्य सभ्यता के पूर्वजों और ॠषियों के द्वारा पारिवारिक सम्बन्धों को गहनता के साथ एक दूसरे से जोड़ने की अद्भुत संयोजनशीलता की अन्तर्निहित भावना से प्रेरित है|

हजारों सालों से बहनें, अपने भाइयों की लम्बी उम्र की कामना करते  हुये उन्हें अपनी रक्षा के वचन से बॉंधती आ रही हैं|

कहा जाता है आज के दिन ही राजा बलि द्वारा अनधिकारपूर्वक कब्जा किये गये इन्द्र के राज्य को मुक्त कराने हेतु, भगवान विष्णु ने वामन अवतार लेकर, बलि से तीन पग भूमि का दान देने के वचन लेकर, उसे वचन की रक्षा के बन्धन में, बॉंधने के लिये रक्षा सूत्र का प्रयोग किया था, फिर बलि के वचन में बंध जाने के बाद पहले पग में धरती, दूसरे में आकाश नाप लिया और तीसरे पग की भूमि मॉंग कर, राजा बलि के अहंकार का मर्दन किया था|

उस दृष्टि से देखा जाय तो यह पर्व वचन की मर्यादा से बंधने की प्रेरणा तो देता ही है, साथ ही अपने गुणों पर अहंकार निषेध का भी पाठ पढ़ाता है; जब त्रैलोक्य विजेता बलि का अहंकार नष्ट हो गया, तो फिर आम मनुष्य का अहं कैसे शेष रहेगा|

ऐसे मे मुझे विषय से हटकर कॉंग्रेस पार्टी का अहंकार, जब उसने काले धन के मुद्दे पर आवाज़ उठाने वाले रामदेव के दमन का अहंकार दिखाया था; अन्ना की लोकपाल बिल लाने की आवाज़ को तिहाड़ जेल में बंद करने का प्रयास किया था, एवम् केजरीवाल की भ्रष्टाचार के विरुद्ध आवाज़ की अनदेखी की थी, सो भारत की वामन स्वरूप जनता ने, कांग्रेस पार्टी के सत्तामद को चकनाचूर करते उसे बौना बना दिया|

मोदी और केज़रीवाल भले ही इसे अपनी विजय मान कर गौरवान्वित अनुभव कर रहे हों, परन्तु यह जीत भी उसी के पास तब तक सुरक्षित है, जब तक वह अपने घोषणापत्रों में लिये गये वचनों की मर्यादा का पालन करते रहें|

जनता को वामन समझते हुये, उसे दान देने का वैसा दर्प न दिखायें, जैसा कि स्वयं को प्रधान सेवक कहने वाले मोदी ने अभी हाल में बिहार की एक चुनावी जनसभा में हजारों करोड़ की केन्द्रीय सहायता को इस तरह से दर्शाया जैसे मानो वे कोई राजा बलि की भांति सम्राट हों, और बिहार की जनता वामन|

ऱक्षा बन्धन के संदर्भ में दूसरी पौराणिक कथा, भगवान श्रीकृष्ण द्वारा शिशुपाल को सुदर्शन चक्र द्वारा, उसकी अभद्रता की सीमा पार करने पर मृत्युदण्ड देने के पश्चात उनकी उंगली से रक्त बहते देख द्रौपदी ने भरी राज्यसभा के बीच, पटरानी होने का अभिमान भूल कर, अपनी  साड़ी से एक पट्टी फाड़कर, श्रीकृष्ण की उंगली पर बॉंध दी थी, और भगवान श्रीकृष्ण ने उसी समय, द्रौपदी को वचन देते हुये कहा था, हे द्रौपदी मैं तुम्हारी इस पट्टी के एक एक धागे का ॠणी हो गया हूँ|

फिर आपको ज्ञात ही होगा, कौरवों द्वारा अपमानित कर वस्त्रहरण के प्रयास के समय, भरी राज्यसभा में किसी से भी सहायता न मिल पाने पर, कृष्ण को पुकारा था; तब भगवान श्रीकृष्ण ने सर्वव्यापक और सर्वशक्तिमान रूप का परिचय देते हुये, वस्त्रावतार ले लिया और द्रौपदी की लाज़ की रक्षा की|

रक्षा सूत्र की महिमा, वचन की मर्यादा, स्नेह, ममता और पवित्र प्रेम को संजोये हुये है| इसकी पर्व का महात्म्य दिखता है, जब हमारी बुआ, पिता जी को भावविभोर होकर रक्षासूत्र बॉंधतीं हैं, और पिताजी अपनी बहन के चरणस्पर्श कर, उन्हें वचन निर्वाह के लिये आश्वस्त करते हैं|

बिना कुछ बोले कहे हुये ही ये धागे बहुत कुछ कहते हैं|

कोरियर से लेकर, पूरा डाक विभाग, बहनों के रक्षाबंधन सन्देश को  पहुंचाने में कटिबद्ध हो जाता है, करोड़ों रुपये की राखियों की बिक्री होती है| भारतीय पर्वों में हमारी अर्थव्यवस्था को डूबने से बचाने की विशाल शक्ति भी अन्तर्निहित है|

भारत की सभ्यता का यह अद्भुत  और अद्वितीय पर्व है, जिसमें वैवाहिक जीवन के दायित्वों में उलझे भाई बहनों को, बचपन की सुहानी यादें ताजा हो जाती हैं, वो लड़ना, झगड़ना, बहन का मात्रवत् भाई की चिन्ता करना, भाई का पित्रवत् बहनों की सुरक्षा की चिन्ता करना आदि|

बहन और भाई प्रेम, पवित्र और निष्काम प्रेम का अनुपम उदाहरण है; आज फिर वही पर्व आया है, करोड़ो बहनें, अपने भाइयों के जीवन की मंगल कामना कर रही हैं; भाई बहनों के हाथों से टीका लगवा कर, मुंह मीठा करते हुये, बहनों के प्रति अपने प्रेम और सम्मान को व्यक्त कर रहे हैं|

वक्त की मॉंग है कि आज बहनें अपने भाई से, देश भर की दूसरी बहनों की सुरक्षा का वचन मॉंग रही है, भाइयों को बजरंगी बन, अपने मित्रों के सहयोग से, दुराचारियों को सबक सिखाना ही होगा; और नारी जाति की अस्मिता की रक्षा का संकल्प लेना ही होगा, आइये हम ये पवित्र संकल्प ले कर इस पर्व को अधिक सार्थक स्वरूप प्रदान करें|          -तेज प्रकाश

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें